मंगलवार, 1 दिसंबर 2015

॥ हरि ॐ  ॥ 

२१ नवंबर २०१५ - आत्मबल के होममेकर बैच का आखरी दिन ।  स्वयं परम पूज्य  नंदाई  के उपस्थिती से एक कुरूप बत्तख का सुन्दर राजहंस में परिवर्तन  होता है, इसका अहसास आज की तारीख तक हर एका आत्मबलाइट ने खुद किया है । 


परमपूज्य नंदाई के साथ आत्मबल २०१५ -होममेकर स्पेशल बैच



इस वीडिओ में होममेकर स्पेशल बैच की सखियां परमपूज्य  नंदाई से अपनी कृतज्ञता व्यक्त करती हुई दिखाई देती है ।

 

शुक्रवार, 6 नवंबर 2015

आत्मबल महोत्सव के सुनहरे पल

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 4:51 pm कोई टिप्पणी नही
हरि ॐ
आत्मबल महोत्सवको चार साल पुरे होगये । इस अवसर पर देखतेहै महोत्सवके कुछ सुनहरे पल ।


 

गुरुवार, 5 नवंबर 2015

आत्मबल महोत्सव के सुनहरे पल

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 3:22 pm 1 टिप्पणी
हरि ॐ
आत्मबल महोत्सवको चार साल पुरे होगये । इस अवसर पर देखतेहै महोत्सवके कुछ सुनहरे पल ।



गुरुवार, 29 अक्तूबर 2015

फ़न ऐक्टीव्हीटीज

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 4:49 pm 6 टिप्पणीयॉं
॥ हरि ॐ  ॥ 

नंदाई की इस वर्ष की ये ‘होम मेकर स्पेशल बॅच’ कुछ खास है। अपने घर के कामकाज में, सदैव व्यस्त रहती इन सखियोंको, हर क्लासमें, हमारी नंदाई अनोखे अनुभव से जुडी, खुशी प्रदान करती है। ऐसी बहुत सारी ‘फ़न ऐक्टीव्हीटीज’ जो खेलके तौर पर इन सखियोंने बचपनमें ही खेले थे, वो दोबारा खेलनेका मौका आई इन्हें दे रही है । केवल एक साधारण बॉल हमारे जीवनमें कितना आनंद भर देता है!!! इस वीडिओमें हम देखेंगे इन सबकी उत्साह और चैतन्य भरी प्रतिक्रियाएँ ।


शनिवार, 17 अक्तूबर 2015

महाराष्ट्र के पारंपारिक खेल

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 1:02 pm कोई टिप्पणी नही
त्योहारोमें से एक है 'मंगलागौर'। यह त्योहार अभी लुप्त होने के सीमा पर है। आत्मबल बैच १९९८  के समाप्ती के अवसर पर  प. पू. नंदाई ने 'मंगलागौर' का विशेष तौर पर आयोजन किया था। सभी सखियां प. पू. नंदाई के साथ उन खेलों में शामिल होकर अपने आप को भूल बैठी । मानो उनके बीते हुए दिन वापस आए हो, इस प्रकार उन्हों ने इस खेल का आनंद लिया। इतना ही नहीं, महाराष्ट्र के घर घर में खेले जानेवाले 'भोंडला' इस  मराठी खेल का भी मजा उस दिन सभी सखियोंने प. पू. नंदाई के साथ लुटा।






शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2015

आत्मबल क्लासकी शुरुवात

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 3:59 pm कोई टिप्पणी नही
आत्मबल क्लासकी शुरुवात १९९८ से हुई। परम पूज्य नंदाई स्वयं सब सखियोंके बीच मे बैठकर मार्गदर्शन करती थी। सभी सखियों का नित्य जीवन विकसित करनेके उपलक्षमे "गेस्ट लेक्चर" का भी आयोजन किया गया था ।















मंगलवार, 29 सितंबर 2015

हस्तकला

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 1:48 pm 2 टिप्पणीयॉं
खुद के व्यक्तित्वका एक अनोखा अविष्कार । आत्मबल क्लास का अविभाज्य हिस्सा है हस्तकला । इन छे महिनों के दौरान, प.पूज्य नंदाई सब सखियोंकी छुपी खुबियोंपे गिरा परदा हलकेसे उठाती है । यह सखिया अपनेही भूले हुए खुदसे मिलकर खूश हो जाती है ।





शुक्रवार, 11 सितंबर 2015

नंदाई को हल्दी कुमकुम के तौर पर लडीयां

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 5:30 pm कोई टिप्पणी नही








परमपूज्य सद्‌गुरु श्रीअनिरुध्द  ने जो तेरा कलमी कार्यक्रम घोषित किया है, उसमें से चरखा योजना एक महत्त्वपूर्ण कलम है । प.पूज्य नंदाई आत्मबल क्लास मे यह योजना कार्यान्वित करती है । नंदाई के कहने पर आत्मबल क्लास की सभी सखियां हर शनिवार कम से कम दो लडियां हल्दी कुमकुम के तौर पर नंदाईको अर्पण करती है।

शनिवार, 27 जून 2015

पुष्प १६ वे - पहिला दिवस

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 5:36 pm 1 टिप्पणी
ज्या दिवसाची सार्‍या सख्या आतुरतेने वाट पहात असतात, तो दिवस आज अखेर उगवला..... आज आत्मबल बॅच २०१५ चा पहिला दिवस. सगळ्या बॅचेस्‌ची तशी स्वत:ची अशी अनोखी ओळख असते. ह्या वेळेच्या बॅचचं वैशिष्ट्य म्हणजे ही बॅच फक्त गृहिणींकरिता आहे.

गृहिणी म्हणण्यापेक्षा होम-मेकर म्हटलेलं नंदाईला जास्त आवडतं. ह्या होममेकर्स ज्या खर्‍या अर्थाने घरातले आधारस्तंभ असतात, त्यांना ह्या वेळेस नंदाईने मोलाची संधी दिली आहे. आज पुन्हा एकदा नंदाई निघाली आहे, एक नवीन प्रवासाला.... सार्‍या होममेकर्स चं रुपांतर एका सुंदर हंसात करण्यासाठी, प्रत्येक स्त्रीला तिची ओळख नव्याने करुन देण्यासाठी.

॥ हरि ॐ ॥ ॥ श्रीराम ॥ ॥ अंबज्ञ ॥





 









गुरुवार, 12 फ़रवरी 2015

आत्मबल स्नेहसंमेलन २०१५ ग्रॅण्ड फिनाले

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 2:19 pm कोई टिप्पणी नही


बुधवार, 11 फ़रवरी 2015

आत्मबल स्नेहसंमेलन २०१४ - १५

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 6:25 pm 1 टिप्पणी



बुधवार, 4 फ़रवरी 2015












मंगलवार, 3 फ़रवरी 2015

हरि ॐ

आत्मबल स्नेह सम्मेलन ज्याची आपण आतुरतेने वाट बघतोय ते अगदी मोजक्याच दिवसांवर येऊन ठेपलय. फक्त चार दिवस.....आईच्या सगळ्या लेकी सज्ज आहेत, ह्या भव्य समारंभासाठी.

परम पूज्य नंदाईंच्या अफाट प्रयासांनी आणि अत्यंत प्रेमाने हा समारंभ ८ फेब्रुवारी २०१५ रोजी सादर करण्यात येणार आहे.

परम पूज्य नंदाईचे तिच्या लेकींवर असलेले अव्याहत व असीम प्रेम हे त्या नेहमीच प्रॅक्टीस दरम्यान अनुभवत असतात. म्हणूनच आम्ही तुमच्या सोबत शेअर करत आहोत, त्यातलेच काही अनमोल क्षण.

अंबज्ञ आई