शनिवार, 4 जून 2016

 

फोर्ब्सने अमेरिका की सबसे सफल ६० महिला उद्यमियोंकी सूची जारी कि है।
इसमे दो भारतीय महिलाभी शामिल है।इनका नाम नीरजा सेठी और जयश्री उल्लाल है। 




यही नहीं फोर्ब्‍स ने इन भारतीय महिलाओं को सबसे कामयाब सेल्‍फ मेड वूमेन एंटरप्रेन्‍योर बताया है और इस बात का जिक्र किया है कि इन महिलाओं ने इन्वेंशन और इनोवेशन के जरिए बिजनेस में नई ऊंचाइयों को छुआ है।...

 
ये दोनों भारतीय महिलाएं सोशल मीडिया पर भी खासी चर्चित हैं। वे फेसबुक, ट्विटर के अलावा गूगल जैसे सर्च इंजन में चर्चा का विषय रहती हैं।

-आईटी कन्सल्टिंग एंड आउटसोर्सिंग फर्म सिन्‍टेल की कोफाउंडर भारतीय मूल की महिला नीरजा सेठी को फोर्ब्‍स ने सेल्‍फ मेड अमेरिकन वूमेन की लिस्‍ट में 16वें नंबर पर रखा है।

61
साल भारतीय महिला नीरजा सेठी की कंपनी की नेटवर्थ 1.1 अरब डॉलर है। -इतनी बड़ी नेटवर्थ के साथ इनकी कंपनी में अच्‍छे खासे वर्किंग इंप्‍लॉई कैपेसिटी है। इस समय सेठी की कंपनी में 25 हजार से ज्‍यादा इंप्‍लॉर्इ हैं। सेठी का दावा है मौजूदा समय में उनकी कंपनी की मार्केट कैप 3.6 अरब डॉलर है।

वर्तमान में वह एंटरप्रेन्‍योर होने के अलावा कई मुख्‍य जिम्‍मेदारियां भी निभाती हैं।वह इस समय कॉरपोरेट अफेयर्स की वाइस प्रेसीडेंट हैं के साथ बिजनेस डायरेक्‍टर्स बोर्ड पैनल को बखूबी रिप्रेजेंट करती हैं।

लिस्ट में 30वें पायदान पर जयश्री उल्‍लाल ...

अरिस्‍टा नेटवर्क की प्रेसीडेंट और सीईओ जयश्री उल्‍लाल (55) को 30वीं रैंक प्रदान की गई है। यूं तो भारतीय महिलाओं में चंदा कोचर, अरुंधति रॉय और इंदिरा नूई जैसी महिलाओं के नाम शामिल हैं। लेकिन देश की दूसरी सबसे धनी महिलाओं को टक्कर देना और सक्‍सेसफुल सीईओ का दर्जा मिलना उल्‍लाल के लिए एक बड़ी उपलब्धि है।...

नई दिल्‍ली की जय श्री उल्‍लाल इंडियन हैं, लेकिन इनका जन्‍म अमेरिका में ही हुआ है। वह 2008 में अरिस्‍टा नेटवर्क की प्रेसिडेंट और सीर्इओ बनीं। बिजनेस खड़ा किए हुए अभी सिर्फ आठ साल बीते हैं लेकिन उन्‍होंने इतनी कम समय में अमेरिकन एंटरप्रेन्‍योर में अच्‍छा खासा नाम कमाया है। इस समय उनकी कंपनी की कुल नेटवर्थ 470 करोड़ रुपए है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक 2015 में कंपनी ने 83.8 करोड़ डॉलर का रेवेन्‍यू है। जय श्री उल्‍लाल अपनी कंपनी के कर्मचारियों के साथ केयरिंग हैं और उन्‍हें अधिक से अधिक प्रॉफि‍ट देने पर भरोसा रखती हैं।...
अरिस्‍ता नेटवर्क में उन्‍होंने इंजीनियर टीम से ज्‍यादा टेक्‍नोलॉजी टीम पर ध्‍यान दिया और टे‍क्निकल फील्‍ड में अपडेटेड टेक्‍नोलॉजी को अपनाने का प्रयास किया ताकि वह कंपनी के नेटवर्क को बेहतर टेक्‍नोलॉजी दे सके।...

http://www.bhaskar.com/news/INT-indian-origin-two-women-in-forbes-self-made-american-women-list-5339948-NOR.html

सोमवार, 23 मई 2016

बधाई !!!! इसरो के वैज्ञानिकों कों

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 5:04 pm कोई टिप्पणी नही


इसरो ने लॉन्च किया पहला 'मेड इन इंडिया' स्पेस शटल

 

 ‘RLV-TD का मुख्य लक्ष्य पृथ्वी की कक्षा में उपग्रह पहुंचाना और फिर वायुमंडल में दोबारा प्रवेश करना है. शटल को एक ठोस रॉकेट मोटर से ले जाया जाएगा. नौ मीटर लंबे रॉकेट का वजन 11 टन है.'

पीएम ने दी बधाई
पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर वैज्ञानिकों को इसके लिए बधाई दी. पीएम ने कहा भारत के पहले स्वदेशी अंतरिक्ष शटल RLV-टीडी की लॉन्चिंग हमारे वैज्ञानिकों के मेहनती प्रयासों का परिणाम है. गतिशीलता और समर्पण के साथ जो हमारे वैज्ञानिकों और इसरो ने पिछले कुछ सालों में काम किया है, वह असाधारण और बहुत ही प्रेरणादायक है.

इस स्पेस क्राफ्ट को बनाने में 600 वैज्ञानिकों और इंजीनियरों ने दिन-रात की मेहनत की है.

ये होगा फायदा
इसरो के साइंटिस्टों का मानना है कि वे इस स्पेस क्राफ्ट के लॉन्च और सफल होने के बाद सैटेलाइट्स आदि को स्पेस में लॉन्च करने में होने वाले खर्च को 10 गुना कम कर लिया जाएगा.


http://aajtak.intoday.in/story/isro-launches-rlv-td-fully-made-in-india-space-shuttle-1-870346.html