गुरुवार, 29 अक्तूबर 2015

फ़न ऐक्टीव्हीटीज

इसे प्रकाशित किया Aatmabal ने तारीख और समय 4:49 pm 6 टिप्पणीयॉं
॥ हरि ॐ  ॥ 

नंदाई की इस वर्ष की ये ‘होम मेकर स्पेशल बॅच’ कुछ खास है। अपने घर के कामकाज में, सदैव व्यस्त रहती इन सखियोंको, हर क्लासमें, हमारी नंदाई अनोखे अनुभव से जुडी, खुशी प्रदान करती है। ऐसी बहुत सारी ‘फ़न ऐक्टीव्हीटीज’ जो खेलके तौर पर इन सखियोंने बचपनमें ही खेले थे, वो दोबारा खेलनेका मौका आई इन्हें दे रही है । केवल एक साधारण बॉल हमारे जीवनमें कितना आनंद भर देता है!!! इस वीडिओमें हम देखेंगे इन सबकी उत्साह और चैतन्य भरी प्रतिक्रियाएँ ।


6 टिप्‍पणियां:

  1. हरि ॐ
    जय जगदंब जय दुर्गे
    गृहिणीसाठी खास असलेल्या ह्या आत्मबलच्या क्लासमधे आमची नंदाई ह्या गृहिणींचा किती विचार करतें. लहान साध्या दिसणाऱ्या बॉलने खेळून कसा आनंद लूटता येतो हे फक्त माझी आईच जाणते .
    I Love You Aai
    Ambadnya

    उत्तर देंहटाएं
  2. आई च आपल्या बाळांचा एवढा विचार करू शकते आणि आपली नंदाई तर विश्व माता आहे.
    तिने ह्या वर्षीच्या स्पेशल बैच साठी खुप मेहनत घेवून एका बॉल ने आपण आपला वेळ कसा घालवु शकतो, त्या सोबत आपण आपला शारीरिक व्यायाम कसा करू शकतो हे ही शिकवले।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हरि ॐ
    बचपन के दिन भी क्या दिन थे ,उडते फिरते तितली बनके....
    इस विडिओ में ,ऐसी evergreen तितलिया कितनी खूष दिख रही हैं ! हर एक के दिल का खयाल रखनेवाली हमारी नंदाई को कोटी कोटी अंबज्ञ..
    जय जगदंब जय दुर्गे..

    उत्तर देंहटाएं
  4. असा विचार फक्त नंदाईच करू शकते.कारण हा सारा आत्मबलचा घाट हा फक्त तिने तिच्या लेकीँन वरील प्रेमा पोटी घातलाय.हिच आमची आई....

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह सिर्फ नंदाई के आत्मबल क्लास में ही हो सकता हैं..क्यों की आत्मबल क्लास नंदाई के प्यार का खजिना हैं , और यह खजिना हर एक सखी लूट रही हैंl

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरि ॐ
    श्रीराम अम्बद्न्य
    खरच आई ने "या गृहिणी खास"आत्मबल क्लास मधे , खेळ हा तुम्हाला
    कसा आनंद देतो...हे नव्याने दाखवून दिले...
    लहानपणी हातात धरलेल्या बॉलच्या खेळ। चा आनंद ,आज इतक्या वर्षानंतरही,तसाच कसा उपभोगता येतो याचा विचार आईच करू जाणे!
    अम्बद्न्य आई

    उत्तर देंहटाएं